अनिवार्य परीक्षण एवं प्रमाणीकरण के लिए आवश्यक आवश्यकताओं के रूप में सुरक्षा आवश्यकताओं के संबंध में इनपुट प्राप्त करने के लिए हितधारकों की बैठक हेतु सूचना

दूरसंचार विभाग, संचार मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राजपत्र अधिसूचना सं. जी.एस.आर. 1131 (ई) दिनांक 5 सितंबर, 2017 के तहत भारतीय टेलीग्राफ नियम, 1951 (संशोधन 2017) में संशोधन किया गया है ताकि टेलीकॉम उपकरणों के अनिवार्य टेस्टिंग और प्रमाणीकरण शुरू किया जा सके। ये नियम 1 अक्टूबर 2018 से लागू होंगे, और टीईसी टेलीकॉम उपकरण के अनिवार्य परीक्षण और प्रमाणीकरण को लागू कर रहा है। टीईसी के संबंधित आवश्यक आवश्यकताएं (ईआर) दस्तावेजों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए दूरसंचार उपकरणों का टेस्टिंग और प्रमाणीकरण किया जाएगा ।

अनिवार्य टेस्टिंग और प्रमाणीकरण को लागू करने के लिए ईआर तैयार की गई और सुरक्षा आवश्यकताएं, आवश्यक आवश्यकताओं का एक हिस्सा हैं जिन्हें टीईसी के कोर डिवीजनों द्वारा डिवेलप किया गया है। प्रत्येक उपकरण की सुरक्षा आवश्यकताओं को डिवेलप करने की जिम्मेदारी डीओटी की सिक्योरिटी विंग को  सौंपी गई है ।

2.4 गीगाहर्ट्ज़ और 5 गीगाहर्ट्ज़ आवृत्ति बैंड के उपकरण के संचालन के संबंध में सुरक्षा आवश्यकताओं पर एक मसौदा टीटीएससी बैंगलोर (संलग्न) द्वारा तैयार किया गया हैं और इसे ईआर में शामिल किए जाने से पहले सुरक्षा संबंधी आवश्यकताओं पर चर्चा करने के लिए, वाई-फाई सीपीई के हितधारकों के साथ सुरक्षा आवश्यकताओं के मसौदे पर इनपुट प्राप्त करने के लिए दिनांक 11.01.18 को 14:30 बजे संवाद समिति कक्ष, तीसरी मंजिल, टीईसी में एक बैठक का आयोजन किया जाएगा ।

यदि कोई इनपुट है तो कृपया निम्न ईमेल आईडी पर भेजें:

Profile photo of admin