दूरसंचार उपकरणों का अनिवार्य परीक्षण और प्रमाणन

टेलीग्राफ नियमों में संशोधन के द्वारा दूरसंचार उपकरणों का अनिवार्य परीक्षण और प्रमाणन एनेबल किया गया है, जो 01-10-2018 से प्रभावी होगा। (अधिक विवरण हेतु यहाँ क्लिक करें)

दूरसंचार उपकरणों का परीक्षण और प्रमाणन

दूरसंचार उपकरणों का अनिवार्य परीक्षण और प्रमाणन (एमटीसीटीई)

भारतीय टेलीग्राफ (संशोधन) नियम, 2017, प्रदान करता है कि प्रत्येक दूरसंचार उपकरण को अनिवार्य परीक्षण और प्रमाणन से गुजरना होगा। इन नियमों के तहत दूरसंचार उपकरणों के अनिवार्य परीक्षण और प्रमाणन (एमटीसीटीई) के लिए विस्तृत प्रक्रिया को अलग से अधिसूचित किया जाएगा। परीक्षण भारतीय मान्यता प्राप्त लैब्स द्वारा किया जाता है और उनके परीक्षण रिपोर्टों के आधार पर, टीईसी द्वारा प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा। इस प्रक्रिया के ऑनलाइन प्रशासन के लिए एक अलग पोर्टल विकसित किया जा रहा है। भारतीय टेलीग्राफ (संशोधन) नियम, 2017 की प्रतिलिपि के लिए यहां क्लिक करें।
टाइप अप्रूवल और इंटरफ़ेस अप्रूवल
टाइप अप्रूवल और इंटरफ़ेस अप्रूवल टेलीकॉम उत्पादों के लिए टीईसी के विरूद्ध सामान्य आवश्यकताएं (जीआर) जारी किए गए हैं और इंटरफ़ेस आवश्यकताएं (आईआर) पहले की तरह जारी रहेगी। विषय और अन्य विवरण पर चरण-दर-चरण दिशानिर्देश के लिए यहां क्लिक करें।
आईपीवी 6 रेडी लोगो टेस्टिंग

दूरसंचार अभियांत्रिकी केंद्र (टीईसी) द्वारा इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 6 (आईपीवी 6) लैब सेटअप ने आईपीवी 6 फोरम के तहत आईपीवी 6 रेडी लोगो कमेटी द्वारा अनुमोदित होने के लिए एक अनूठी विशिष्टता अर्जित की है जो कि एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है। यह उपलब्धि टीईसी और देश के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि दुनिया में बहुत कम अन्य प्रयोगशालाओं ने इस मील का पत्थर हासिल किया है इस प्रकार भारत ने यूरोप और देशों का चयन समूह शामिल किया है, जिसमें अमरीका, जापान, चीन, ताइवान, फ्रांस और कोरिया शामिल हैं। यह परीक्षा प्रयोगशाला आईपीवी 6 को कार्यान्वित करने वाले विभिन्न सॉफ़्टवेयर/उपकरण के अनुरूपता के साथ-साथ इंटरऑपरेबिलिटी टेस्ट को पूरा करती है। इसमें अन्य आईपीवी 6 रेडी लोगो द्वारा अनुमोदित प्रयोगशालाओं द्वारा भेजे गए परीक्षा परिणामों की परीक्षा की क्षमता भी है। (विवरण के लिए यहां क्लिक करें)